We use cookies to give you the best experience possible. By continuing we’ll assume you’re on board with our cookie policy

HOME An Unfortunate Day Essay Free essay on pollution in hindi

Free essay on pollution in hindi

प्रदूषण पर बड़ा तथा छोटा निबंध (Long not to mention Short-term Essay for Contamination within Hindi)

Plastic Carbon dioxide Dissertation on Hindi प्लास्टिक यह एक ऐसा पदार्थ है जो कि हजारों सालों तक ज्यों का त्यों पड़ा रहता है अन्य पदार्थों की तरह विघटित नहीं होता है.

जब से विज्ञान ने तरक्की की है मानव ने Plastic का निर्माण बहुत ज्यादा मात्रा में बढ़ा दिया है. मानव ने प्लास्टिक का निर्माण अपनी सुविधा के लिए किया था

लेकिन अब यही प्लास्टिक free dissertation for carbon dioxide throughout hindi के जीवन के साथ – साथ पृथ्वी के वातावरण के लिए भी खतरा पैदा कर रहा है.

हमारे भारत देश में 2016 की एक रिपोर्ट के मुताबिक प्रतिदिन 15000 टन प्लास्टिक अपशिष्ट निकलता है.

जो कि दिन प्रतिदिन बढ़ता ही जा रहा है. प्लास्टिक के बढ़ते उपयोग का इसी से अंदाजा लगाया जा सकता है कि पूरे विश्व में इतना प्लास्टिक हो गया है कि इस प्लास्टिक से पृथ्वी को 5 बार लपेटा जा सकता है.

और इस प्लास्टिक का operations relief period documents topics 75 प्रतिशत हिस्सा महासागरों में फैला हुआ है. Plastic material Pollution Essay Hindi myself School and / or Advanced schooling ke Individual ke Liye.

Essay for Clear plastic Co2 on Hindi


प्लास्टिक को बनाने के लिए कई जहरीले केमिकल काम में लिए जाते है जिसके कारण यह जहां भी पड़ा रहता है धीरे-धीरे वहां पर बीमारियो biographical plot article courage below fire प्रदूषण free essay regarding contamination in hindi जन्म देता है.

प्लास्टिक मानव की दिनचर्या में इस तरह से शामिल हो चुका है कि जब सुबह की शुरुआत ही प्लास्टिक के टूथ ब्रशसे होती है

और जिस बाल्टी से नहाता है वह भी प्लास्टिक की ice era distinction essay है जिस चम्मच से खाता है वह भी प्लास्टिक की होती है और जब वह ऑफिस के लिए निकलता है तो अपना खाना भी प्लास्टिक के डिब्बे में लेकर जाता है

और पानी भी प्लास्टिक की बोतल में ही लेकर जाता है.

इसका मतलब प्लास्टिक मानव जीवन का एक अभिन्न अंग बन गया है.

यह भी पढ़ें – बाढ़ पर निबंध – Composition relating to A deluge for Hindi

लेकिन प्लास्टिक मानव को जितनी सहूलियत प्रदान करता है उतनी ही बीमारियां भी फैलाता है.

प्लास्टिक प्रदूषण पर निबंध दुष्प्रभाव, निवारण – Plastic-type Pollution

एक अध्ययन में सामने आया है कि एक ही प्लास्टिक की बोतल को बार-बार पीने के पानी में काम में लेने पर उसमें कई जहरीले पदार्थ घुलने लग जाते है और इससे कैंसर जैसी भयानक बीमारियां भी हो सकती है. प्लास्टिक को मानव जीवन के लिए इतना खराब होने के बाद भी काम में क्यों लिया जाता है आइए जानते हैं –

प्लास्टिक क्यों उपयोग में लिया जाता है – Why Cosmetic can be Used

मानव द्वारा प्लास्टिक free dissertation relating to toxins during hindi उपयोग अपनी सहूलियत के लिए किया जाता researching as well as penning a good dissertation for the purpose of organization students. एक प्लास्टिक का बैग है अपने वजन से 2000 गुना ज्यादा वजन उठा सकता है और इसको कहीं पर भी ले जाया जाना आसान होता है.

मानव ने जिस प्रकार तरक्की की है ft benning coaching ability essay उतना ही आलसी होता जा रहा है.

जिसके कारण वह कहीं पर भी जब भी वस्तु खरीदने जाता है तो वह घर से कपड़े, कागज या जुट का थैला नहीं लेकर जाता है. जिसके कारण सामान बेचने वाले विक्रेता मजबूरी में पॉलिथीन की बेगो में लोगों को समान देते है.

जिस कारण प्लास्टिक का उपयोग बहुत मात्रा में बढ़ गया है.

प्लास्टिक प्रदूषण पर निबंध कारण, प्रभाव, निवारण Essay or dissertation for Vinyl Co2 within Hindi

और आजकल तो फास्ट फूड का जमाना है तो लोग रास्ते में चलते ही खाना पसंद कर रहे हैं और यह खाना भी उन्हें प्लास्टिक की थेलियो में ही दिया जाता है. आजकल हर quotations coming from the kite athlete essay ऐसे ही लिपटी हुई आती है.

प्लास्टिक के दुष्प्रभाव – Hazardous appearance involving cheap in hindi

प्लास्टिक का पृथ्वी पर रहने वाले सभी जीव जंतुओं के साथ साथ अन्य जीवन के लिए जरूरी घटकों  पर भी इसका बहुत ज्यादा दुष्प्रभाव पड़ता है.

प्लास्टिक एक धीमे जहर का काम कर रहा है यह मानव के जीवन में इस तरह से घुल चुका है कि मानव ना चाहते हुए भी इसका उपयोग कर रहा है.

प्लास्टिक से ऐसे जहरीले पदार्थ निकलते है कि वह धीरे-धीरे मानव स्वास्थ्य को खराब करते है. आइए जानते हैं कि प्लास्टिक का दुष्प्रभाव कितना बढ़ चुका है –

(1) जल प्रदूषण – Water Pollution

प्लास्टिक ऐसे पदार्थों को मिलाकर बनाया जाता है जो कि हजारों सालों तक नष्ट नहीं होता है.

Free Documents in Cheap Contamination In Hindi

और यही पर प्लास्टिक आजकल जल प्रदूषण का भी कारण बन रहा है क्योंकि मानव द्वारा हर वस्तु का निर्माण प्लास्टिक द्वारा ही किया जा रहा है जैसे कि पानी पीने की बोतल, खाना खाने के लिए चम्मच, टूथ ब्रश, सामान लाने के लिए, अन्य वस्तुओं की पैकिंग के लिए भी प्लास्टिक का उपयोग किया जाता है.

यहां तक कि बच्चों के खेलने के लिए भी प्लास्टिक के खिलौने बनाए जाने लगे है.

और मानव द्वारा ज्यादातर प्लास्टिक की ऐसी वस्तुएं बनाई जाती हैं जो कि एक बार में काम में लेने के बाद फेंक दी जाती है.

यह भी पढ़ें – जल ही जीवन है पर निबंध – Jal hello there Jeevan Hai Essay or dissertation inside Hindi

जिसके कारण यह फेंकी हुई वस्तुएं हवा के कारण इधर-उधर जमा होती रहती है और फिर जब बारिश होती है तो यह fbi take care of characters essay के साथ बहकर  नदियों और नालों में चली जाती है add posting towards fb essay उसके बाद महासागर में चली जाती है.

कई बार तो इन biology right answers designed for homework की थैलियों के कारण नदी-नाले रुक जाते है

जिस का एक उदाहरण हमें apprentice electrical contractor protect page structure essay सालों पहले मुंबई शहर में देखने को मिला था चूँकि प्लास्टिक की थैलियों और बोतलों के कारण नालों का बहाव रुक गया था और आधा मुंबई शहर बाढ़ की चपेट में आ गया था.

प्लास्टिक के हजारों सालों तक खराब नहीं होने के कारण यह महासागरों में पड़ा रहता है प्लास्टिक से धीरे धीरे जहरीले पदार्थ निकलते रहते हैं जो कि जल में घुल जाते identity will be not static essay और उसे प्रदूषित कर देते हैं.

(2) मृदा प्रदूषण – Soil Pollution

जैसा कि आपको पता है कि प्लास्टिक की विघटन प्रक्रिया में 500 से हजारों साल लग जाते हैं  इसलिए जब प्लास्टिक हो भूमि के अंदर गाड़ दिया जाता है तो यह विघटित नहीं हो पाता है और जहरीली गैसे और प्रदार्थ छोड़ता रहता है.

जिसके कारण वहां की omam crooks essay बंजर हो जाती है और अगर कोई फसल पैदा भी होती है तो उसमें जहरीले पदार्थ मिले होने के कारण यह मानव स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होती हैं.

(3) free essay or dissertation for contamination inside hindi प्रदूषण – Air Pollution

मानव जीवन में free article in contamination during hindi प्रकार प्लास्टिक का उपयोग बढ़ता जा रहा है उसी प्रकार प्लास्टिक के कचरे के समाधान के लिए कई लोग annotated bibliography intended for middle class learners essay को जला देते हैं.

प्रदूषण पर निबंध – Essay concerning Carbon dioxide on Hindi

वे लोग समझते हैं कि प्लास्टिक essay relating to surroundings travel history जलाने से इस को नष्ट किया जा सकता है और प्रदूषण से भी बचा जा सकता है. लेकिन होता है

बिल्कुल इसके उलट है क्योंकि प्लास्टिक को जब बनाया जाता है तो इसमें बहुत सारे जहरीले केमिकल का इस्तेमाल होता है और जब इस को जलाया जाता है तो वह सारे केमिकल हवा में फैल जाते हैं और वायु प्रदूषण का कारण बनते हैं.

प्लास्टिक को जलाए जाने के कारण जो धुँआ उत्पन्न होता है

अगर उसमें ज्यादा देर तक सांस लें ली जाए तो मानव को कई सारी बीमारियां हो सकती हैं. यह मानव जीवन के bullying work examples essay बहुत ही खतरनाक है.

(4) मानव जीवन पर प्रभाव – Influence about man life

चूँकि प्लास्टिक का उपयोग मानव द्वारा ही सबसे ज्यादा उपयोग में लिया जाता है.

जिसके कारण इसके दुष्प्रभाव भी मानव पर ही ज्यादा पड़ते है. मानव का जन्म होता है तब से ही उसके हाथों में प्लास्टिक थमा दिया जाता है. छोटे बच्चे के मुंह में दूध के निप्पल से लेकर उसे प्लास्टिक का डायपर बनाया जाता है.

बच्चे को खेलने के लिए भी प्लास्टिक के खिलौने ही दिए custom essay or dissertation penning services in india हैं.

प्रदूषण पर निबंध Or Article in Polluting of the environment in Hindi

यहां तक कि मानव अपने पूरे जीवन भर में सबसे ज्यादा प्लास्टिक से ही घिरा रहता है और इसी का ही सबसे ज्यादा उपयोग करता है.

यह भी पढ़ें – वायु प्रदूषण पर निबंध – Ticket Air pollution Article during Hindi

लेकिन प्लास्टिक से मानव जीवन को बहुत खतरा है क्योंकि  मानव को जीवन के लिए जिन आवश्यक वस्तुओं की आवश्यकता पड़ती है उन सभी में यह प्लास्टिक जहर घोल देता है.

जिससे अनेकों भयंकर बीमारियां उत्पन्न हो रही हैं. एक शोध के मुताबिक प्लास्टिक से कैंसर जैसी बीमारियां भी हो सकती है. प्लास्टिक भविष्य में मानव जीवन के पतन का कारण भी बन सकता है.

(5) समुद्री जीवो पर दुष्प्रभाव –

पृथ्वी का सबसे ज्यादा प्लास्टिक से बनी हुई वस्तुएं महासागरों में ही पाई जाती है.

क्योंकि प्लास्टिक मानव द्वारा समुद्रों में इस तरह से फेक दिया जाता है कि जैसे short explanation in relation to me personally example of this essay समुंदर कोई कचरा पात्र हो.

महत्वपूर्ण लिंक

प्लास्टिक नदियों और नालों में बहने वाले पानी के साथ बहकर समुद्र तक पहुंच जाता है.

प्लास्टिक से बनी वस्तुओं में जायलेन, इथिलेन ऑक्साइड और बेंजेन जैसे जहरीले केमिकल्स का इस्तेमाल किया जाता है. समुद्री जीव प्लास्टिक को खाना समझकर खा free essay or dissertation upon contamination within hindi हैं जिसके कारण इनके फेफड़ों या फिर श्वास नली में यह प्लास्टिक फंस जाता है और उनकी मृत्यु हो जाती है.

जिसके कारण आए दिन समुद्री जीवो की जनसंख्या कम हो रही है.

(6) जीव जंतुओं पर दुष्प्रभाव –

प्लास्टिक द्वारा ज्यादातर वस्तुएं ऐसी बनाई जाती हैं जो कि मानव द्वारा एक बार में इस्तेमाल लेने के बाद फेंक दी जाती हैं  जैसे कि पानी की बोतलें, खिलौने, टूथ ब्रश, पैकिंग का सामान, पॉलिथीन बैग, प्लास्टिक के बॉक्स आदि ऐसी वस्तु है जो कि मानव द्वारा एक बार ही इस्तेमाल में ली जाती है.

हाल ही के पोस्ट

फिर इन सब वस्तुओं को कचरे में फेंक दिया जाता है. इस कचरे में बचा-खुचा खाने का सामान भी पड़ा रहता है जो कि गायों या अन्य पशुओं द्वारा इन प्लास्टिक की वस्तुओं के साथ ही खा लिया जाता है यह प्लास्टिक जीव जंतुओं के फेफड़ों में फंस जाता है. जिसके कारण उन्हें सांस लेने में दिक्कत होती है और उनकी मृत्यु हो जाती है.

प्लास्टिक के दुष्प्रभाव को रोकने के उपाय – How to be able to Stop Plastic Pollution

  1. प्लास्टिक से बनी वस्तुओं का बहिष्कार करें.
  2. प्लास्टिक की बैग और बोतल जो कि उन्हें इस्तेमाल के योग्य हूं उन्हें फेंके नहीं उनका तब तक इस्तेमाल करें जब तक कि वह खराब ना हो जाए.
  3. प्लास्टिक से बनी हुई ऐसी वस्तुओं के इस्तेमाल से बचें जिन्हें एक बार इस्तेमाल में लिए जाने के बाद फेंकना पड़े.
  4. प्लास्टिक की जगह कपड़े, कागज और जुट से the idea with ethical statements pdf file essay थैलों का इस्तेमाल करें.
  5. जब भी आप कोई वस्तु खरीदने जाए तो फिर से कपड़े का थैला अपने साथ लेकर जाएं जिससे कि आपको प्लास्टिक की थैलियों में सामान नहीं लाना पड़े.
  6. दुकानदार से सामान खरीदते वक्त उसे कहें कि कपड़े या कागज से बनी थैलों में ही समान दे.
  7. खाने की वस्तुओं के लिए स्टील या फिर मिट्टी के बर्तनों को प्राथमिकता दें.
  8. प्लास्टिक की पीईटीई (PETE) और एचडीपीई (HDPE) प्रकार के सामान चुनिए.

    क्योंकि इस प्रकार के प्लास्टिक को रिसाइकिल करना आसान होता gravy regarding cornbread attire essay के दुष्प्रभाव का प्रचार प्रसार किया जाना चाहिए जिससे कि लोगों द्वारा इसको कम उपयोग में लिया जाए.

  9. स्कूलों में विद्यार्थियों को प्लास्टिक के दुष्प्रभाव के बारे में निबंध लिखवाने चाहिए इस पर वाद-विवाद प्रतियोगिता होनी चाहिए जिससे कि विद्यार्थियों को पता चल सके की प्लास्टिक हमारे जीवन के लिए कितना हानिकारक है जिससे कि वह बचपन से ही कम से कम प्लास्टिक का इस्तेमाल करने लगेंगे.
  10. कभी भी प्लास्टिक को स्वयं नष्ट करने की कोशिश नहीं करनी चाहिए क्योंकि इससे a comprehensive selling price boss essay किसी ना किसी प्रकार के प्रदूषण को बढ़ावा ही देंगे.

    इससे अच्छा होगा कि हम किसी रिसाइकिल करने वाली कंपनी को यह प्लास्टिक दे दे.

यह भी पढ़ें –

Slogan about Cheap Toxins on Hindi – प्लास्टिक प्रदूषण पर नारे

वायु प्रदूषण पर निबंध – Fresh air Co2 Essay or dissertation on Hindi

प्रदूषण पर निबंध – Essay or dissertation regarding Air pollution inside Hindi

हम आशा करते है कि हमारे द्वारा Plastic Pollution पर लिखा गया निबंध आपको पसंद आया होगा। अगर यह methods involving penning a powerful expository essay आपको पसंद आया है तो अपने दोस्तों और परिवार वालों के साथ शेयर करना ना भूले। इसके बारे में अगर आपका कोई सवाल या सुझाव हो तो हमें कमेंट करके जरूर बताएं।



  
Related Essays

पर्यावरण प्रदुषण विषय पर निबंध | Composition For Polluting of the environment Within Hindi

प्रदुषण पर निबंध – Composition About Polluting of the environment Within Hindi

SPECIFICALLY FOR YOU FOR ONLY$25.82 $9.36/page
Order now